Latest News


 प्रश्न एवं उत्तर

प्रश्न : Shri Swami Ji ko sat sat naman, kripya jyotishpeet ke dwara pradan ki jaane wali dikhaon ke vishay main btaye.
By Naresh Kumar on 01 Oct 2023
उत्तर:
प्रश्न : शरद पूर्णिमा को दीक्षा लेना चाहता हु। कृपया मार्गदर्शन करे ।
By शरदेन्दु on 27 Sep 2023
उत्तर: परमाराध्य जी जहाँ रहें उस दिन वहाॅ पर सुबह 6.45 बजे भारतीय वेश-भूषा में माथे पर तिलक सिर पर शिखा रखे हुए पहुँच जाइए। अधिक जानकारी के लिए 7417417414 पर सम्पर्क करें।
प्रश्न : स्वामी जी को मेरा सादर दंडवत प्रणाम!! आपसे मेरा एक प्रश्न है.. मैं बचपन से सभी धर्म सम्राटो के नामों में पवित्र अंक '१००८' को देख रहा हूं, मैंने इसका तात्पर्य जानने की बहुत कोशिश की परंतु मैं नहीं जान पाया.. कृपया इसका उत्तर देने की कृपा करे गुरुदेव🙏🏻 हमारे सनातन संस्कृति में १००८ अंक का अर्थ एवम् महत्व क्या है ? प्रणाम गुरुदेव !! - अखिल सिंह ठाकुर (शिष्य)
By Akhil Singh Thakur on 24 Sep 2023
उत्तर: आपके प्रश्न का उत्तर संस्कार चैनल पर प्रतिदिन रात को आने वाले प्रश्न प्रबोध कार्यक्रम में 8.10- 8.30 में दिखाया जा सकेगा।
प्रश्न : परमधर्माधीश उत्तराम्नाय ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य श्री स्वामी जी महाराज को मेरा शत-शत नमन. आचार्य जी! कुछ प्रवचन कर्ता तो प्राण को जीव कहते हैं, कुछ सूक्ष्म शरीर को जीव कहते हैं, कुछ शरीर को ही जीव कहते हैं कुछ ब्रह्म को जीव कहते हैं। अनेकों प्रवचन सुनने के पश्चात भी मेरी भ्रम की स्थिति यथावत बनी हुई है। आचार्य जी कृपा करके जीव और जीवात्मा के अर्थ और उनके भेद को समझाने की कृपा करें।
By Brahm Singh on 26 Aug 2023
उत्तर: आपके प्रश्न का उत्तर संस्कार चैनल पर प्रतिदिन सायं 8 .10 पर आने वाले प्रश्न प्रबोध कार्यक्रम में मिल जाएगी।
प्रश्न : jai badri vishal pranam gurudev mai aap sabhi sankracharya ke youtube channel ko dekhta rehta hun,jo satik gyan aap sabhi se milta hai bada hi akarshit karta hai, mere man m ek prashn hai ki aap 4ron kab ek saath ek manch par aakar hme abhibhut karenge.
By Kuldeep Singh Rathore on 17 Aug 2023
उत्तर:
प्रश्न : सादर प्रणाम गुरु जी क्या महापात्र कर्मकांड या पुजा पाठ नहीं करा सकते हैं
By करन मिश्र on 31 Jul 2023
उत्तर:
प्रश्न : Gurudev aapke charno mein koti koti naman. Gurudev main shiv ji ka upasak hun aur aapse deeksha Lena chahta hun, iske liye mujhe kya karna hoga
By Himanshu Sharma on 24 Jul 2023
उत्तर: पूर्णिमा के दिन प्रातः ठीक 7 बजे दीक्षा होती है। दीक्षा के लिए भारतीय वेश भूषा में माथे पर तिलक और सिर पर चोटी रखकर उपस्थित होना चाहिए। नारायण।
प्रश्न : जीवन मे नास्तिक विचार ही आते है, ईश्वर के चरणों मे समर्पित होना चाहता हु, क्या करू?
By Abhishek kumar on 08 Jul 2023
उत्तर:
प्रश्न : Diksha lene ke liye kab aaye hum? Kaha aana hai?
By Devanshi Desai on 14 Jun 2023
उत्तर: अभी परमहंसी गंगा आश्रम गोटेगाॅव जिला नरसिंहपुर मध्य प्रदेश में चातुर्मास्य व्रत चल रहा है। नारायण।
प्रश्न : Life main kisi bhi kaam main sucess nhi mil rha kya kare.sharik,mansik,family ,personal sb trah ki samasya hai negativity feel hoti hai .kripa margdarshan kare.
By shivli on 06 Jun 2023
उत्तर:
प्रश्न : गुरुदिक्षा लेने के नियम ओर दीक्षा लेणे के बाद के कर्तव्य के बारे मे बताईये
By akshay suresh desai on 01 May 2023
उत्तर:
प्रश्न : Gau sukt ka path kerna hai to sankalp me Kya bolte hai and samarpan kese kere. Kya bolte hai samarpan me. Aurbkise samarpit kere
By abc on 19 Mar 2023
उत्तर:
प्रश्न : मेरे कई सवाल हैं 1. रामकृष्ण मिशन के मैं आपके विचार क्या है? 2. रामकृष्ण मिशन में सभी धर्मों का सम्मान किया जाता है तो तो क्या ये सही है? 3. रामकृष्ण परमहंस भगवान 4. क्या स्वामी विवेकानंद भगवान हैं?
By Rajesh pawar on 09 Mar 2023
उत्तर:
प्रश्न : #प्रश्नप्रबोधः #prashnaprabodh पूज्यपाद ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामिश्री अविमुक्तेश्वरानंद जी के चरणो में सुदूर पाश्चिचम कनाडा से मेरा बारम्बार प्रणाम। स्वामी मेरे दो प्रश्न है: १) मै अपने माता पिता की पुण्यतिथी पर, यहाँ घर पर रह कर क्या पूजा पाठ उनकी दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिऐ कर सकता हू। पिछले सालो में, प्रायः भोजन बना कर भगवान श्री कृष्ण को भोग लगता रहा हू इस प्रार्थना के साथ कि वो उनको तृप्त रखे और अपने लोक में स्थान और सेवा का अवसर प्रदान करे। साथ ही उनके निमित्त विष्णु सहस्त्र नाम का जप पाठ और हरे कृष्ण मंत्र की माला। क्या यह विधि भगवान को स्वीकार होगी। कृपया मार्ग दर्शन करे किस इस विधि में और क्या जोडा जा सकता है। २) क्योकि मैरे माता पिता ने भारत में देह त्याग किया था और मेरी भूगोलिक स्थिती और समय भारत से भिन्न है , तो इन क्रियाओ के करने की तिथी/समय का निधारण कैसे करू। पिछले सालो मे, भारत की तिथी पर ही यहाँ पर उनके लिए पूजा करता था, क्या यह उचित है? मैरी माता ने एकादशी की तिथी को देह त्याग किया था, तो कुछ यहा के वैष्णवो का कहना है, कि पूजा द्वादशी को करनी चाहिए। कृपया मार्ग दर्शन करे। आपका कोटि कोटि धन्यवाद सुशील अग्रवाल वेनकूवर कनाडा
By Sushil on 27 Feb 2023
उत्तर: